Desi Hindi Shero Shayeri / Sayeri Lexicon

POST COUNT - 269

तन की खूबसूरती | Sayeri

तन की खूबसूरती एक भ्रम  है..! सबसे खूबसूरत आपकी "वाणी" है..!       चाहे तो दिल "जीत" ले..!        चाहे तो दिल "चीर"...

Read More

मैं गरीब किसान का बेटा हूँ | Sayeri

तुम आयकर अफ़सर की बेटी, मैं गरीब किसान का बेटा हूँ ! तुम हॉट स्पॉट वाई फ़ाई हो, और मैं 2जी का डेटा हूँ !! तुम होलसेल का हो मार्केट, मैं छोटा सा विक्रेता हूँ ! तुम शॉपिंग मॉल की शोभा हो, मैं हाट बाजार...

Read More

Kaun farebi hai yeh bata | Sayeri

o kehne waaley mujhko farebi kaun farebi hai yeh bata woh jisne gham liya pyaar ke khaatir yah jisne pyaar ko bech diya nasha daulat ka aisa bhi kya k tujhe kuch bhi yaad nahi

Read More

कोई ऐसा मिला जिस पर | Sayeri

कहाँ कोई ऐसा मिला जिस पर हम दुनिया लुटा देते; हर एक ने धोखा दिया, किस-किस को भुला देते; अपने दिल का ज़ख्म दिल में ही दबाये रखा; बयां करते तो पता नही कितनो के चहरे उतर जाते | न मैं गिरा और न मेरी...

Read More

बड़ा ज़िद्दी है कमीना | Sayeri

अर्ज़ किया है: वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो; ज़रा गौर फरमाइये: वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो; बड़ा ज़िद्दी है ये कमीना, पहले कुत्ते की तरह घसीटो। अय दोस्त मत कर इन...

Read More

स्वागत मानसून | Sayeri

कल तक उड़ती थी चेहरे पर** आज पैरों से लिपट गयी** चन्द बूँदें क्या बरसीं बरसात की** धूल की फ़ितरत ही बदल गयी**** ***स्वागत मानसून***

Read More

आसमान देखता है | Sayeri

यूँ जमींन पर बैठ कर क्यों आसमान देखता है, पंखो को खोल जमाना सिर्फ उड़ान देखता है। लहरों की तो फितरत ही है शोर मचाने की, मंज़िल उसी की होती है जो नज़रो में तूफ़ान देखता है...।

Read More

खुशबू कहा से आए | Sayeri

कपड़े हो गए छोटेलाज कहा से आए रोटी हो गई ब्रैड ताकत कहा से आएफूल हो गए प्लास्टिक केखुशबू कहा से आएचेहरा हो गया मेकअप कारूप कहाँ से आएशिक्षक हो गए टयुशन केविद्या कहाँ से आएभोजन हो गए होटल केतंदरुस्ती...

Read More

नींद आती है तो | Sayeri

नींद आती है तो ख़्वाब आता है; ख़्वाब में एक लड़की आती है; लड़की के पीछे उसका बाप आता है; फिर न नींद आती है न ख़्वाब आता है! इसिलिये मेरा छोड़िए आपलोग सो जाइये।

Read More

बाबुल की बगिया में | Sayeri

जो लडकिया लव के चककर मे पडकर अपने माँ-बाप को छोडकर घर से भाग जाती है मै उन लडकीयो के लिए कुछ कहना चाहुंगा . . बाबुल की बगिया में जब तू , बनके कली खिली, तुमको क्या मालूम की, उनको कितनी खुशी मिली । उस...

Read More

Khusiya jab de dastak | Sayeri

khusiyo ke rosni jagmagati rahe aap sab me... kasto ko dur karte rahe diwali ki rosni aap sab me... khusiya jab de dastak aap ke dwaar me... koi v andhera chu na jaye aap sab me... phool khile...

Read More

कुछ आज लिख रहा हु | Sayeri

दिल के सुरों के कुछ साज लिख रहा हु, बैठा हुआ मैं तनहा कुछ आज लिख रहा हु, सोच में हु जीवन किस और जा रहा है, न सोच है यहाँ कोई, न कुछ समझ आ रहा है, परेशानियों के पल में कुछ आज खो रहा हु, बैठा हुआ मैं...

Read More

इंसान बदल जाता | Sayeri

कमाल है ना !!आखें तालाब नहीं, फिर भी, भर आती हैं !!दुश्मनी बीज नहीं, फिर भी, बोई जाती है !!होठ कपड़ा नहीं, फिर भी, सिल जाते हैं !!किस्मत सखी नहीं, फिर भी, रूठ जाती है !!बुद्धि लोहा नहीं, फिर भी, ज़ंग...

Read More

नज़रे ज़ुका लेगी | Sayeri

वो बेवफा हमारा इम्तेहा क्या लेगी… मिलेगी नज़रो से नज़रे तो अपनी नज़रे ज़ुका लेगी… उसे मेरी कबर पर दीया मत जलाने देना… वो नादान है यारो… अपना हाथ जला लेगी.समंदर के लिए वो...

Read More

Gam Ki Parchaai Sad Shayeri | Sayeri

Zindagi may aaj you tanhaai na hoti, muskurate labo pe gam ki parchaai na hoti, jhilmilaate hum bhi muhabbat ki roshni may, agar wafa k naam pe teri bewafaai na hoti. Kisi aur ki bahon mein...

Read More

Login


May I Know You

  • System » Unknown
  • Browser » Unknown
  • IP Address » 54.198.147.221
  • 5 Online